अमेरिका ने AUKUS से भारत को किया बाहर

प्रधानमंत्री मोदी साहब जैसे ही अमेरिका पहुचे पहुचते ही साहब को अमेरिका की तरफ से तगड़ा झटका मिल गया।शायद अमेरिका अतिथी देवोभवः का मतलब नही जानता है ।मोदी साहब ने अमेरिका जाने के लिए इतना खर्चा किया है प्रचार करने के लिए बड़े-बड़े मीडिया संस्थानों के पत्रकार साथ गए हैं कम से कम वापस भारत तो आ जाने देते। अब मामला क्या है ये जानते हैं..अमेरिका ने हिंद-प्रशांत में बढ़ती चुनौतियों से मुकाबला करने के लिए ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के साथ पिछले हफ्ते सुरक्षा समझौता किया गया था। इस करार को इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती आक्रामकता से निपटने के नजरिए से देखा जा रहा है, लेकिन अमेरिका ने इस गठबंधन में भारत और जापान को शामिल करने से मना कर दिया है।

अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के गठबंधन को AUKUS नाम दिया गया। AUKUS नाम तीनो देशो के नाम से मिलकर बना है। इसके विस्तार से जुड़े प्रश्न पर व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी ने बुधवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि इंडो-पैसिफिक की सुरक्षा के लिए की गई पार्टनरशिप में किसी और को शामिल नहीं किया जा रहा है। मीडिया के एक रिपोर्टर ने साकी से ये प्रश्न इसलिए पूछा था कि अमेरिका में 24 सितंबर को QUAD देशों की एक सभा होने वाली थी ।भारत और जापान भी QUAD का हिस्सा हैं। इस पर साकी ने मजाक में कह दिया कि AUKUS क्या JAUKUS या JAIAUKUS हो जाएगा।

क्या है ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन अमेरिका का समझौता?

ऑस्ट्रेलिया ने परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियां बनाने के लिए अमेरिका और ब्रिटेन के साथ सुरक्षा समूह बनाया गया है। इस गठबंधन (AUKUS) से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की गतिविधियों को काबू किया जा सकेगा। इस वजह से AUKUS का हिंद-प्रशांत सुरक्षा समूह में आना भारत के लिए भी बड़ी उपलब्धि मानी जाती है। माना जा रहा था कि इससे भारत के लिए परमाणु सहयोग के नए रास्ते खुल सकेंगे, क्योंकि अभी तक इस मामले में भारत को सिर्फ रूस से ही मदद मिल रही है। लेकिन अब अमेरिका ने स्पस्ट कर दिया है कि वह भारत को AUKUS में शामिल नहीं करेगा।

AUKUS ने बढ़ाई चीन की चिंता

हिंद-प्रशांत महासागरीय इलाके के लिए अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन की सुरक्षा साझेदारी से चीन की बेचैनी बढ़ गई है। अपनी अनदेखी से तिलमिलाए चीन ने कहा था कि इन देशों को किसी तीसरे पक्ष के हितों को नुकसान पहुंचाने के मकसद से फैसले नहीं करने चाहिये। उन्हें अपनी शीत युद्ध वाली मानसिकता और वैचारिक पूर्वाग्रहों को दूर करना चाहिए।

कितना अलग है QUAD से AUKUS

QUAD देशों में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत शामिल हैं। ये चारों बहुपक्षीय बातचीत करते हैं। इसमें हाई तकनीक या कोई बड़ा समझौता नहीं होती है। वहीं QUAD से अलग हटकर ऑस्ट्रेलिया के साथ AUKUS समझौता एक नए मिलिट्री अलायंस की शुरुआत है। इस तरह का मिलिट्री अलायंस करने में भारत में एक तरह की हिचकिचाहट है, क्योंकि भारत अमेरिका के साथ-साथ ईरान और रूस से भी संबंध बनाए रखना चाहता है।

Leave a Comment